बिजयपुर। विजयपुर थाना क्षेत्र के धरोल गांव निवासी पांचवी कक्षा में पढ़ने वाली 10 वर्षीय बच्ची ने घर पर ही फांसी का फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली है।
  विजयपुर थाना प्रभारी भगवान सिंह झाला ने बताया कि थाना क्षेत्र के धरोल निवासी रतन लाल भील की बेटी गायत्री का शव कमरे में फंदे से लटका मिला। पिता रतनलाल कि 4 साल पहले वह मां की 3 साल पहले बीमारी से मौत हो चुकी है। गायत्री एवं तीन अन्य भाई बहन विजयपुर रावला परिसर में एक कमरे में रहते हुए पढ़ाई भी कर रहे थे, सबसे बड़ा भाई कन्हैया लाल नवी कक्षा में पढ़ता है वह सुबह स्कूल चला गया था दोनों बहने पड़ोस में खेल रही थी सबसे छोटी बहन गायत्री कमरे में ही रुकी रही काफी देर तक कमरा अंदर से बंद रहा तो पड़ोसियों ने कन्हैयालाल को स्कूल से बुलवाया दरवाजे में छेद से देखा तो गायत्री कड़े पर साड़ी का फंदा लगाकर लटकी हुई थी। पुलिस, पड़ोसी व परिजन प्रथम दृष्टया इसे आत्महत्या मान रहे हैं लेकिन इतनी छोटी बच्ची ने किन कारणों से और कैसे फांसी का फंदा लगाकर आत्महत्या की यह तो राज की बात बनकर रह गई है।
  मृतका के भाई कन्हैयालाल ने थाने में रिपोर्ट दी जिसमे बताया कि मैं स्कूल चला गया जिसके बाद कमरें मे बन्द कर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली, बाद में उसे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र विजयपुर ले जाया गया जहा उसे मृत घोषित कर दिया, आत्महत्या के कारणों का पता नही चल पाया।
  पुलिस ने पोस्टमार्टम करवा शव परिजनों को सुपुर्द किया।
 पुलिस अब मामले की जांच में जुट गई है।