चित्तौड़गढ़ 26 अक्टूबर। शस्त्र वीरों की वेशभूषा है और वर्षों से वीर शस्त्रों से सुसज्जित रहा है। शस्त्र को चलाने के लिए आत्मबल अति आवश्यक है। बिना आत्मबल के शस्त्र धारण का कोई महत्व नहीं है। प्रतिवर्ष विजयादशमी पर शस्त्रों की पूजा से आत्मबल मजबूत होता है।
उक्त विचार रविवार को महावीर व्यायामशाला पर विजयादशमी पर हिन्दू जागरण के मंच के शस्त्रपूजन कार्यक्रम के दौरान संघ के विभाग सहकार्यवाह दिनेशचन्द्र भट्ट ने मुख्य वक्ता के रूप में बोलते हुए व्यक्त किये। 
जानकारी देते हुए प्रचार प्रसार प्रमुख उमेश अजमेरा ने बताया कि कार्यक्रम में विशिष्ठ अतिथि पूर्व नो सेना पेशेवर दिनेश पुरी गोस्वामी थे जबकि अध्यक्षता जिलाध्यक्ष पहलवान कैलाश गुर्जर (सामरी) ने की। कार्यक्रम के प्रारम्भ में अतिथियों ने भगवान रामचन्द्र व हनुमान की तस्वीर पर माल्यार्पण कर दीप प्रज्ज्वलित किया। 
कार्यक्रम में हिन्दू जागरण मंच के जिला संयोजक राजकुमार कुमावत, सह संयोजक श्रवण सोनी, उपाध्यक्ष जसवंत झाला, प्रशिक्षण प्रमुख नकूल गांछा, युवा वाहिनी प्रमुख पृथ्वीराज कुमावत, धार्मिक आयोजन प्रमुख सना प्रजापत, विधि प्रमुख रवि बाथरा, बहु बेटी आयाम प्रमुख विकास सोनी, सम्पर्क प्रमुख मनोज साहू, संत मठाधीश प्रमुख यति सचिन, सुरेन्द्र सिंह, सूरज कुमावत, देवेन्द्रबेनीवाल, अंकि सोनी, अनिल गांछा, नगर सहसंयोजक अशोक, भगवानलाल, भोईखेड़ा सहप्रमुख हेमं भोई, पवन धाकड़, संजय कुमावत, रोहित कुमावत आदि ने शस्त्र पूजा की। 
विजयादशमी पर हिन्दू जागरण मंच के तत्वावधान में गंगरार, कपासन, बोजुन्दा, सदर थाना, सेंती, पंचवटी, भोईखेड़ा, कंथारिया, शंभूपुरा, सामरी आदि स्थानों पर भी शस्त्र पूजन का कार्यक्रम सम्पन्न हुआ।