चित्तौड़गढ़। ज़िला कलक्टर ताराचंद मीणा ने मंगलवार को कोरोना के बढ़ते मामलों को लेकर सभी एसडीएम, पुलिस उपाधीक्षकों, बीडीओ, बीसीएमओ आदि से संवाद किया। उन्होंने कोरोना गाइडलाइन का कड़ाई से पालन करने, अधिकाधिक वैक्सिनेशन करवाने, कोविड पॉज़िटिव को सख्ती से आइसोलेट करने, संसाधनों की उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। विभिन्न वैवाहिक, सामाजिक, धार्मिक आदि आयोजनों में एसओपी की सख्त पालना हेतु कहा।
   ज़िला कलक्टर मीणा ने सभी एसडीएम, पुलिस उपाधीक्षक, बीडीओ, बीसीएमओ को कहा कि वेक्सीन की कोई कमी नहीं है, इसलिए वंचित लोगों का शीघ्र वैक्सिनेशन करवाएं। कहा कि ज़िले में लगातार केस बढ़ रहे हैं, यह अलार्मिंग सिचुएशन है, हमें अत्यंत सतर्कता बरतने की जरूरत है। ज़िला कलक्टर ने कहा कि बढ़ते केस के मध्यनजर सामाजिक संगठनों, स्वयं सेवी संस्थाओं, धर्मगुरुओं से संवाद करते रहें। दूसरी लहर के दौरान जो अनुभव हुए हैं, उससे सिख लेते हुए तैयारियां अभी से शुरु कर दें। उन्होंने कहा कि कोरोना का नया वेरिएंट ओमिक्रोन बेहद तेजी से फैल रहा है, यह वेरिएंट आगे क्या रूप लेगा यह कोई नहीं कह सकता।
  उन्होंने निर्देश दिए कि ग्राम स्तरीय समितियों को पुनः एक्टिवेट करें, अपने क्षेत्रों में मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग आदि की पालना करवाएं। मास्क को लेकर सख्ती चालू करें। कार्यालयों, प्रतिष्ठानों आदि में सोशल डिस्टनसिंग के लिए गोले बनवाएं। जहां लोग पॉज़िटिव आते हैं, वहां कंटेन्मेंट ज़ोन बनाएं एवं सख्त अनुपालन कराएं। कोरोना पॉज़िटिव को सख्ती से आइसोलेट करें एवं कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग करें। आईएलआई लक्षण होने पर मरीज का कोविड टेस्ट करवाएं।
  उन्होंने कहा कि ज़िले के सभी ऑक्सीजन प्लांट को चेक करवा लें कि वह वर्किंग कंडीशन में है। बेड, पल्स ऑक्सिमीटर, ऑक्सीजन कॉन्संट्रेटर आदि संसाधनों की उपलब्धता सुनिश्चित करें।
 एडीएम द्वितीय ज्ञानमल खटीक ने राज्य सरकार की ओर से जारी एसओपी की कड़ी अनुपालन के निर्देश दिए। ज़िला कलक्टर ने चेक पोस्ट पर आवश्यक सुविधाएं सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। एडिशनल एसपी हिम्मत सिंह देवल ने सभी पुलिस उपाधीक्षकों को गाइडलाइंस का उल्लंघन करने वालों पर अभियान चला कर सख्त कार्रवाई शरू करने के निर्देश दिए। मास्क, सोशल डिस्टेंस आदि की पालना नहीं करने वालों के चालान बनाने हेतु कहा। नाइट कर्फ्यू की अनिवार्यतः पालना करवाने हेतु कहा। सीएमएचओ डॉ रामकेश गुर्जर ने बताया कि वर्तमान में ज़िले में 24 एक्टिव केस हैं।