चित्तौड़गढ़ । त्याग, शौर्य, बलिदान और अपनी अनूठी विरासत के लिए विख्यात चित्तौड़गढ़ अब इको एण्ड एडवेंचर टूरिज्म के लिए भी पहचाना जाएगा। जिला कलक्टर ताराचंद मीणा द्वारा इको टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए कई प्रयास किये जा रहे हैं।
मंगलवार को जिला कलक्टर ताराचंद मीणा, उप वन संरक्षक सुगना राम जाट, एसीएफ सेमीउल्लाह खान सहित अन्य अधिकारियों ने मृग वन दुर्ग में इको एण्ड एडवेंचर टूरिज्म को लेकर कई साइट्स देखीं। 
 जिला कलक्टर ताराचंद मीणा ने बताया कि दुर्ग स्थित मृग वन से मोहर मगरी तक ज़िप लाइन बन कर तैयार होगी, जिस पर पर्यटक एडवेंचर एक्टिविटी कर सकेंगे। इसके साथ ही ट्रेकिंग के लिए यहाँ ट्रेकिंग ट्रेल बनाई जाएगी। इस ट्रेल के दोनों ओर खुबसुरत प्लांटेशन किया जाएगा। साथ ही साइकिलिंग ट्रैक का विकास भी प्रस्तावित है। 
  उप वन संरक्षक सुगना राम जाट ने बताया कि इससे पर्यटकों की संख्या में बढ़ोत्तरी होगी, पर्यावरण संरक्षण को बढ़ावा मिलेगा और अधिक पर्यटक आने से स्थानीय लोगों को रोजगार भी मिल सकेगा। वन विभाग इसमें कार्यकारी एजेंसी के रूप में होगा। इसके साथ ही सूरजपोल गेट से मुख्य मार्ग तक सड़क विकास करने का भी प्रयास किया जा रहा है। जिला कलक्टर ने बताया कि दुर्ग पर साफ़-सफाई की व्यवस्था बेहतर करने के लिए भी सकारात्मक प्रयास किये जा रहे हैं, जिनका जल्द ही रिजल्ट देखने को मिलेगा।