चित्तौड़गढ। महिला एवं बाल विकास विभाग के पोषण अभियान अंतर्गत जिला अभिसरण समिति का आयोजन हिन्दुस्तान जिंक द्वारा नवनिर्मित जिंक शिक्षण मंथन सभागार (कार्यालय जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक) में जिला कलक्टर ताराचन्द मीणा की अध्यक्षता में किया गया।
 
उपनिदेशक महिला एवं बाल विकास विभाग राजकुमारी खोरवाल ने बताया कि जिला स्तरीय बैठक में लाईन विभागों के साथ अभिसरण के माध्यम से समुदाय के व्यवहार में परिवर्तन द्वारा सेवा प्रदायगी तथा कारगर उपायों को जन-आन्दोलन में परिवर्तित कर लक्ष्यों को प्राप्त करना है।
 
जिला कलकटर ने सभी अभिसरण विभागों को आंगनवाड़ी केन्द्र के लाभार्थियों 0 से 6 वर्श की आयु के बच्चों, गर्भवती एवं धात्री महिलाओं के पोशण स्तर में सुधार करने हेतु भारत सरकार द्वारा दिये गए लक्ष्यों की पूर्ति हेतु निर्देशित किया। उन्होंने चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग को जिले के आंगनवाड़ी केन्द्रों के अतिकुपोशित एवं कुपोशित बच्चों की एएनएम द्वारा स्क्रीनिंग करवाने एवं उनके पोशण स्तर में सुधार हेतु अम्मा कार्यक्रम में समुदाय स्तर पर अतिकुपोशित एवं कुपोशित बच्चों की निगरानी कराने के लिए निर्देशित किया।
 
जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग को निर्देशित करते हुए पेयजल रहित आंगनवाड़ी केन्द्रों पर स्थायी रूप से नल कनेक्शन करवा पेयजल सुविधा उपलब्ध करवाने को  कहा। जिला शिक्षा अधिकारी शांति लाल सुथार को 8 जनवरी से 14 जनवरी 2022 तक आयोजित होने वाली स्वस्थ बालक बालिका स्पर्धा हेतु जिले के प्ले ग्रुप एवं प्री प्राइमरी विद्यालयो (निजी विद्यालय) की सूची उपलब्ध कराते हुए स्पर्धा में भाग लेने हेतु विद्यालय को निर्देशित कराने हेतु निर्देशित किया महिला एवं बाल विकास विभाग को निर्देशित किया की शौचालय विहीन, पेयजल विहीन, भवन विहीन, एवं चारदीवारी विहीन न्युटीª गार्डन की सूची उपलब्ध कराएं जिससे जिला परिषद एवं डीएमएफटी द्वारा कार्य प्रारम्भ कराया जा सके। जिला कलक्टर महोदय ने जिले में घटते लिंगानुपात पर चिंता व्यक्त की एवं समाज में लड़कियों के प्रति सकारात्मक सोच बनाने एवं इस समस्या का समाधान करने हेतु महिला एवं बाल विकास विभाग को  निर्देशित किया। साथ ही 17-18 जनवरी 2022 को चिरंजीवी योजना के कैंप लगाकर लाभार्थियों को योजना से जोड़ने हेतु 25000 का लक्ष्य दिया। हिन्दुस्तान जिंक के सहयोग से जिले की चार परियोजना में चल रही खुशी परियोजना के अन्तर्गत किये जाने वाले शाला पूर्व शिक्षा प्रशिक्षण में जिले की अन्य परियोजना के मास्टर प्रशिक्षकों को भी प्रशिक्षित करने हेतु सीएसआर हेड विशाल अग्रवाल ने प्रस्ताव रखा जिसे जिला कलेक्टर महोदय ने स्वीकृति दी।
 
जिला कलक्टर ने जिले के समस्त बाल विकास परियोजना अधिकारियों को प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना अंतर्गत लक्ष्य पूर्ण करने हेतु निर्देशित किया। लक्ष्य पूर्ण नहीं करने पर 17 सीसी का नोटिस देने हेतु कहा ।बैठक में शांति लाल सुथार, जिला शिक्षा अधिकारी, डीआर सोनी, पीएचईडी, लव कुश पाराशर, आयुर्वेद विभाग, देवी लाल, चिकित्सा विभाग नवीन काकडदा ,मुकेश कुमार,  बाल विकास परियोजना अधिकारी शशि विभा पोषण अभियान जिला समन्वयक समता भटनागर, प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना जिला कार्यक्रम समन्वयक राजेश जोशी, ब्लॉक समन्वयक नारायण सालवी, माया सालवी एवं समस्त महिला पर्यवेक्षक उपस्थित थे।