चित्तोडगढ़।राजेन्द्र प्रसाद गोयल जिला पुलिस अधीक्षक चितौडगढ ने बताया कि दिनांक 04.01.2022 को प्रार्थी अरविन्द शर्मा पिता आनन्दी लाल शर्मा निवासी कनेरा ने पुलिस थाना कनेरा पर रिपोर्ट दर्ज कराई की मैं आरसीसी ठेकेदारी का काम करता हूं। दिनांक 04.01.2022 को शाम को करीब 8 बजे मैं निर्माणाधीन मकान के पास खड़ा-खड़ा मेरे दोस्त से फोन पर बात कर रहा था कि अचानक तीन व्यक्ति आये और मेरी आंखों में मिर्ची का पाउडर डाल दिया तथा मेरे गले में पहनी हुई सोने की चैन लूटकर लेकर भाग गये। मेरी आंखों में मिर्ची डालने से मैं उनका पीछा नहीं कर सका। वगैरा रिपोर्ट पर प्रकरण दर्ज कर अलग-अलग टीमें गठित कर लूट कारित करने वाले अभियुक्तगणों की तलाश प्रारम्भ की गई। 
   घटना की गम्भीरता को देखते हुये  पुलिस अधीक्षक राजेन्द्र प्रसाद गोयल, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (मुख्यालय) हिम्मत सिंह देवल व वृत्ताधिकारी वृत्त निम्बाहेड़ा आशीष द्वारा घटना का शीघ्र खुलासा करने के निर्देश दिये गये जिस पर थाने से अलग-अलग टीमें गठित कर घटनास्थल के आस-पास के लोगों से पूछताछ की गई। प्रार्थी से मिली जानकारी व आसूचना संकलन के आधार पर तीन युवकों साहिल पिता जाकीर हुसैन, आदिल पिता रज्जाक मोहम्मद व मोहम्मद फिरोज पिता मोहम्मद रफीक निवासियान कनेरा को डिटेन कर कड़ाई से पूछताछ की गई तो इन तीनों ने अरविन्द शर्मा के गले से सोने की चैन लूटना स्वीकार किया।
 तरीका वारदात- तीनों अभियुक्तगण पिछले 2-3 दिनों से अरविन्द शर्मा के गले से सोने की चैन लूटने की योजना बना रहे थे। घटना के दिन अभियुक्त फिरोज एक दुकान से पीसी हुई लाल मिर्च खरीद कर लाया और अन्य दोनों अभियुक्तगण साहिल व आदिल को सोंप दी तथा प्लान के मुताबिक दूर से अन्य लोगों की निगरानी करने लगा। इधर घटना का मास्टर माइन्ड साहिल और उसके साथी आदिल ने पीडित अरविन्द शर्मा की आंखों में मिर्ची डाल दी और उसके गले में पहनी हुई सोने की चैन वजनी करीबन 1.5 तौला को लूटकर लेकर भाग गये। तीनों अभियुक्तगण काफी शातिर होकर प्रारम्भिक पूछताछ में पुलिस को गुमराह करते रहे लेकिन मनोवैज्ञानिक तरीके से पूछताछ करने पर व सख्ताई बरतने पर लूट की घटना कारित करना स्वीकार किया।