चित्तौड़गढ़।मुख्यमंत्री युवा संबल योजना के क्रियान्वयन हेतु
ज़िला कलेक्टर ताराचंद मीणा की अध्यक्षता में हुई बैठक में बताया कि बेरोजगार युवाओं को अब बेरोजगारी भत्ता तब ही मिलेगा जब वे सरकारी दफ्तरों में चार घंटे अपनी सेवाएं देंगे।
ज़िला कलेक्टर ताराचंद मीणा ने बताया कि बेरोजगार युवा आफीस में बेठने के साथ साथ आफीस के काम भी सिख सकेंगे। अनेकों विभागों में, उपक्रमों में, व्यवहारिक कार्य अनुभव हेतु चार घंटे प्रतिदिन  काम करना होगा।
 अनेकों विभाग में पद रिक्त होने से काम का भार भी इससेे कम होगा।
 विभागों में किन किन पदों पर क्या-क्या योग्यताएं तथा सेवाएं ली जाना है, सूचना चाही गई थी, जिन्हें ओर भी जरूरत हो, वह विभाग जिन्होंने जानकारी नहीं भेजी उनसे मांगी गई।।
 ज़िला कलेक्टर तारा चन्द मीणा ने
इसके प्रचार प्रसार के भी निर्देश दिए।
 बैठक में उपस्थित श्रम विभाग चित्तौड़गढ़ से सहायक प्रशासन अधिकारी मदन सालवी ओजस्वी ने बताया कि इस हेतु श्रम एवं कोशल, नियोजन उद्यमिता विभाग द्वारा समिति का गठन किया जिसमें अनेकों विभाग सदस्य है तथा ज़िला कलेक्टर अध्यक्ष है। श्रम एवं रोजगार विभाग से अधिकारी राजेंद्र शर्मा ने बताया कि 400 से अधिक बेरोजगार युवाओं को विभिन्न विभागों में उपक्रमों में, व्यवहारिक रूप से काम लेने हेतु विभागों से सुचना प्राप्त हो रही हे।
इस संबंध में समय-समय पर ओर भी बेठको का आयोजन होंगे।
जिन विभागों से कार्य अनुभव हेतु युवाओं की जरूरत हैं, विवरण जो प्राप्त हूआ, प्रस्तुत भी किया गया।