चित्तौड़गढ़ 18 दिसंबर। संवेदनशील, पारदर्शी और जवाबदेही राजस्थान सरकार ने मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत के नेतृत्व में अपने तीन साल पूरे कर लिए। इस मौके पर राज्य स्तर पर शनिवार ने विभिन्न कार्यक्रमों का शुभारम्भ हुआ। मुख्यमंत्री श्री गहलोत ने प्रदेश की जनता को लगभग 14,000 करोड़ रूपए की लागत के विकास कार्यों की अनुपम सौगात प्रदान दी। उन्होंने विभिन्न परियोजनाओं एवं विकास कार्यों का शिलान्यास एवं लोकार्पण किया। जिले के डीओआईटी वीसी कक्ष में सहकारिता मंत्री श्री उदयलाल आंजना, जिला कलक्टर श्री ताराचंद मीणा सहित अन्य अधिकारी राज्य स्तरीय समारोह से कनेक्ट हुए।

इस अवसर पर चित्तौड़गढ़ जिले को भी जल जीवन मिशन के तहत सौगात मिली। मुख्यमंत्री ने जयपुर से ही चित्तौड़गढ़ में जल जीवन मिशन के तहत 21 करोड़ 47 लाख के 12 कार्यों का शिलान्यास किया। कार्यों के पूर्ण होने के बाद जिले के हज़ारों ग्रामीण घरों को नल के माध्यम से पेयजल सप्लाई हो सकेगी। इससे बड़े स्तर पर ग्रामीणों को राहत मिल सकेगी।

प्रदेश स्तर पर आयोजित हुए कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री गहलोत ने कहा कि राज्य सरकार ने जो संभव था उससे भी अधिक करने का प्रयास किया, जनता ने सरकार पर विश्वास रखा और सरकार ने भी जनकल्याणकारी कार्य जारी रखे। उन्होंने कहा कि कोरोना की चुनौतियों के बावजूद विकास को रुकने नहीं दिया। इस दौरान प्रदेश के लोगों का भी काफी साथ मिला। इसके अलावा धर्मगुरुओं, जनप्रतिनिधियों एवं समाज के हर वर्ग का सरकार को साथ मिला। उन्होंने आमजन को विश्वास दिलाया कि आगे भी इसी तरह प्रदेश की प्रगति के लिए सरकार दिन-रात कार्य करती रहेगी।

मुख्यमंत्री श्री गहलोत ने जिले के इन कार्यों का किया शिलान्यास

जल जीवन मिशन के तहत शिलान्यास किए गए कार्यों में 298.29 लाख की लागत से ग्राम खोडीप को पीएण्ड से पाइप्ड योजना में बदलने का कार्य, 199.80 लाख की लागत से ग्राम बाडी को पीएण्ड से पाइप्ड योजना में बदलने का कार्य, 185.11 लाख की लागत से ग्राम बरडा को पीएण्ड से पाइप्ड योजना में बदलने का कार्य, 128.58 लाख की लागत से ग्राम गादोला को पीएण्ड से पाइप्ड योजना में बदलने का कार्य, 180.62 लाख की लागत से ग्राम केली को पीएण्ड से पाइप्ड योजना में बदलने का कार्य, 192.11 लाख की लागत से ग्राम मण्डला चारण को पीएण्ड से पाइप्ड योजना में बदलने का 148.11 लाख की लागत से ग्राम खारखन्दा को पीएण्ड से पाइप्ड योजना में बदलने का कार्य, 129.40 लाख की लागत से जल योजना नेतावल गढ पाछली, 237.56 लाख की लागत से जल योजना मानपुरा गोपालनगर, 209.65 लाख की लागत से जल योजना शंभूपुरा, 146.07 लाख की लागत से जल योजना लालजी का खेडा, 92 लाख की लागत से जल योजना सोनगर कार्य।